Mohan Yadav cabinet: बड़े नेताओं को एडजस्ट करना है चुनौती,अंतिम फैसला केंद्रीय नेतृत्व लेगी

Mohan Yadav cabinet: मध्य प्रदेश सरकार के द्वारा सोमवार को आखिरकार मंत्रिमंडल का गठन हो ही गया जिसके बाद कल मंत्रियों की संख्या अब 31 हो गई है आपको बता दे मुख्यमंत्री मोहन यादव का यह कहना है कि मंत्रिमंडल में बाकी चार रिक्त स्थान भी जल्द भर दिए जाएंगे साथ ही साथ राजनीतिक विशेषज्ञों को यह भी लगता है।

की नई मंत्रिमंडल के गठन में भी भारतीय जनता पार्टी ने राजनीतिक संदेश साफ तौर पर कर दिया है और यह संदेश दिया है कि आने वाले लोकसभा के चुनाव में इसका फोकस अन्य पिछड़ा वर्ग के वोटो पर ही होगा किसी के साथ ऐसा भी कहा गया है कि नए मंत्रिमंडल में मुख्यमंत्री मोहन यादव सहित कुल 13 मंत्री इस वर्ग में आते हैं।

हालांकि मध्य प्रदेश सरकार ने अन्य पिछड़ा वर्ग की आबादी अच्छी खासी अच्छी है और उनके वोट कहे या परिणाम है कि मध्य प्रदेश सरकार में मोहन यादव का आना हुआ है राजनीतिक दलों का यह कहना है,की अन्य पिछड़ा वर्ग की आबादी के कारण ही मध्य प्रदेश में मोहन यादव का सरकार बन पाया है।

Join

हमको बता दे मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सत्ता में वापसी को तीन हफ्ते गुजर गए हैं लेकिन अभी तक यह तय नहीं हुआ है कि कौन सा मंत्री किस विभाग के कमान संभालेंगे साथ-साथ पार्टी ने पहले ही मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा में देरी की और फिर मंत्रियों के चैन में भी लंबा समय लिया अब मंत्रियों के विभाग वितरण के लिए भी जिससे यह सवाल उठ रहा है कि क्या डॉक्टर मोहन यादव की कैबिनेट में बड़े नाम वाले मंत्री होने के कारण पार्टी को उनके करके हिसाब से मंत्रालय देने में मुश्किल आ रही है।

बड़े नेताओं को एडजस्ट करना है चुनौती

आपको बता दे पार्टी के अंदरूनी सूत्रों ने यह बताया है कि कई बड़े नेता अपने समर्थक मंत्रियों के लिए हाई प्रोफाइल मिनिस्ट्री की मांग कम डॉक्टर मोहन यादव और भाजपा संगठन से कर रहे हैं दरअसल मंत्रिमंडल विस्तार के बाद अभी तक मंत्रियों का बंटवारा भी नहीं हो पाया है इसका कारण है गरीब परिवर्तन नगरीय प्रशासन और आप गाड़ी जैसे महक में जो हाई प्रोफाइल माने जाते हैं इन विभागों को लेकर बड़े नेता कोशिश में जुटे हुए हैं वहीं इस बार बीजेपी के कई नेता कैलाश विजयवर्गीय प्रहलाद सिंह पटेल और राकेश सिंह के लिए कद के हिसाब से मंत्रालय तय करने में काफी मुश्किल आ रही है।

अंतिम फैसला केंद्रीय नेतृत्व लेगी

26 दिसंबर को मंत्रियों द्वारा शपथ लेने के तीसरे दिन भी उन्हें विभागों का आवंटन नहीं हो पाया। और साथी ऐसा खबर निकल कर आ रहा है कि कम डॉक्टर मोहन यादव और प्रदेश संगठन ने मंत्रियों के विभाग तय करके अंतिम सहमति के लिए भी सूची दिल्ली में केंद्रीय नेतृत्व के पास भेज दी है अंतिम फैसला केंद्रीय नेतृत्व हिलेगा ऐसा कहा जा रहा है।

visit home page of jkyouthportal.in for the latest update

Leave a Comment